पेशाब रोक कर रखने के दुष्परिणाम – Side Effect of Holding Urine

ramdevbabayog.com - Side Effect of Holding Urine

Sharing is caring!

पेशाब रोक कर रखने के दुष्परिणाम – Side Effect of Holding Urine

जीवन में व्यस्तता के चलते हम बहुत से जरुरी काम भूल जाते है| भले ही वह शरीर से क्यों नहीं जुड़ा हो| शरीर से जुड़ा ऐसा ही एक आवश्यक काम है पेशाब का हमारे शरीर से बहार निकलना| यह हमारी प्राकृतिक आवश्यकता है हमे इसमें किसी प्रकार की शर्म नहीं करनी चाहिए|

कई बार ऐसा होता है कि हम जरुरी मीटिंग में होते है या ट्रेन में होते है या किसी भी कम में व्यस्त होते है तो मस्तिष्क के सिग्नल को अनसुना कर देते है और समय मिलने पर पेशाब जाते है| अगर ऐसा एक बार हो तो कोई बात नहीं लेकिन आपकी कार्यशैली में व्यस्तता आम बात है तो यह आपकी आदत बन सकती है जो की आपके शरीर के लिए नुकसानदायक है| एक सर्वे के अनुसार 40% यूरिन इन्फेक्शन की वजह पेशाब को रोक कर रखना है| और यह अधिकतर महिलाओ में देखा गया है क्योकि महिलाये शर्म के कारण या उचित व्यवस्था के अभाव में पेशाब रोकने को मजबूर हो जाती है|

क्यों होता है यूरिन इन्फेक्शन –

यूरिन के द्वारा हमारे शरीर से निकले हानिकारक पदार्थ शरीर से बहार चले जाते है| जैसे ही हमारे शरीर में उपस्थित पेशाब की थैली भर जाती है हमारा मस्तिष्क हमे पेशाब जाने का सिग्नल देता है लेकिन अगर हम इस सिग्नल अनसुना करते है तो पेशाब में उपस्थित हानिकारक पदार्थ में बैक्टीरिया पनापने लगते है जिससे पेशाब में इन्फेक्शन हो जाता है|

यह भी पढ़े – मूत्र में जलन से छुटकारा – Get Rid of Urine Irritation Problem

अगर पेशाब आने पर हम पेशाब नहीं जाते है तो इसके खतरनाक दुष्परिणाम होते है जिसका असर हमारे शरीर पर पड़ता है|

पेशाब रोक कर रखने के दुष्परिणाम –

1. किडनी का ख़राब होना/Kidney Problem –

अगर आप लम्बे समय तक पेशाब रोकते है और आप ऐसा बार-बार करते है तो यह आपकी किडनी के लिये ठीक नहीं है| पेशाब में मौजूद बैक्टीरिया और विषैले तत्व ब्लैडर के रास्ते किडनी तक पहुंचकर किडनी को संक्रमित करते है जिससे किडनी की कार्यशैली पर बुरा असर पड़ता है|

यह भी पढ़े – गर्भ में लड़का या लडकी – ये प्राचीन प्रथा है विज्ञान पर भारी
यह भी पढ़े – ह्रदयघात से कुछ दिन पहले के लक्षण – Heart Attack Symptoms Before Some Day

2. संक्रमण फैलना/Infection Problem –

पैशाब के द्वारा विषैले तत्व शरीर से बहार निकलते है| लेकिन अगर लम्बे समय तक ब्लैडर में पैशाब रुकी रहती है तो बैक्टीरिया पनापने लगते है और पैशाब में संक्रमण हो जाता है| पैशाब में संक्रमण अधिकतर महिलाओ को होता है|

पथरी की समस्या/Stone Problem –

पैशाब के द्वारा शरीर से एमिनो एसिड, यूरिया और क्षार शरीर से बहार निकलते है| लेकिन अगर हम पैशाब जाने में देरी करते है तो यह सब पैशाब की थैली में रूक जाते है| इससे किडनी में पथरी होने की संभावना बढ़ने लगती है|

इन्फेक्शन से बचने के लिए क्या करे – How to Cure Urine Infection

जैसे ही आपके मस्तिष्क द्वारा आपके पैशाब जाने का संकेत मिलता है बिना बिलम्ब किये आपको पैशाब जाना चाहिए| डॉक्टर का मानना है की पैशाब का संकेत मिलने के 5-7 मिनट के अंदर आपको पैशाब के लिए जाना चाहिए| आपको दिन में कितने बार पैशाब जाना चाहिए इसकी कोई मात्रा नहीं है यह आपके खानपान और शरीर पर आधारित होता है|

यह भी पढ़े – कैसे करें पथरी का घरेलू उपचार – Kidney Stone Home Remedies in Hindi
यह भी पढ़े – बवासीर का आयुर्वेदिक ईलाज – Piles Ayurvedic Treatment

इस पोस्ट को आप अपने रिलेटिव एवं फ्रेंड्स के साथ whatsapp एवं Facebook पर अवश्य शेयर करे| हो सकता है आपका एक share किसी के स्वास्थ्य में सुधार ला सकता है|
Sharing is Caring

इसी के साथ हमारा यह लेख समाप्त होता है अगर आपको (पेशाब रोक कर रखने के दुष्परिणाम – Side Effect of Holding Urine) इससे सम्बन्धित कुछ भी जानना है या राय देनी है तो आप निचे कमेंट बॉक्स में Comment कर सकते है|

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामयाः ।
सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद्दुःखभाग्भवेत् ।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here