Hastmaithun से आई दुर्बलता को दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

hastmaithun weakness - ramdevbaabyog.com

Sharing is caring!

Hastmaithun से आई दुर्बलता को दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय

Hastmaithun Weakness Solution –  से*क्स एजुकेशन एक ऐसा विषय है जिस पर हर कोई बात करने में हिचकिचाता है| जानना हर कोई चाहता है लेकिन उचित जानकारी तक नहीं पहुँच पाते| जानकारी लेने के लिए युवा अपने फ्रेंड्स से बातचीत करते है या इन्टरनेट का उपयोग करते है|

जिसमे उन्हें उचित कंटेंट तो नहीं मिलता उल्टा उन्हें भटका दिया जाता है| दोस्तों को भी सही जानकारी नहीं होती क्योकि उन्हें भी आखिर सही जानकारी दे तो कौन और आखिरकार वह भी तो आप ही की उम्र के है| और इन्टरनेट पर बहुत से नये ब्लॉगर है जो ट्रैफिक लाने के लिए युवाओ की मनचाही हैडिंग डालकर उन्हें अपने ब्लॉग के जरिये गलत जानकारी देते है|
इसलिए इस आर्टिकल के जरिये हम बहुत से युवाओ द्वारा की गई गलतियों को सुधारने का तरीका बता रहे है|

Hastmaithun करने से धातु ( वी*र्य ) दोष हो जाता है| जिससे धातु पतली हो जाती है| अगर इसका समय पर सही ईलाज नहीं कराया गया तो फर्टिलिटी खत्म होने का डर रहता है|

Hastmaithun की आदत युवाओ को नरक में धकेलने जैसी है जिसके लिए युवा स्वंय जिम्मेदार होते है| इस आदत को आप जितनी जल्दी छोड़ दे आपके शरीर के लिए उतना ही अच्छा है| इसके और भी बहुत से दुष्परिणाम जिसकी जानकारी उन्हें शादी के बाद होती है| इसी वजह से नपु*संकता भी जन्म ले लेती है| जो की आपकी शादीसुदा जिन्दगी को नरक बना सकती है|
इसलिए आप इस बुरी आदत को जितनी जल्दी त्याग दे उतना अच्छा होगा|

Hastmaithun से आई दुर्बलता की भरपाई के लिए आप इन नुस्खे को अपनाये –

आंवला एवं हल्दी का मिश्रण –

Hastmaithun से हुई हानि के भरपाई के लिए, 50 ग्राम आंवला एवं 50 ग्राम हल्दी पीसकर उसमे घी डालकर सेक लीजिये और सेंकने के बाद उसमे 100 ग्राम पीसी मिश्री मिला दीजिये| इस मिश्रण को सुबह-शाम गुनगुने दूध के साथ एक चम्मच की मात्रा में सेवन कीजिए|

असगंध (अश्वगंधा) –

Hastmaithun से हुए नुकसान को कम करने के लिए,  अश्वगंधा को 1/2 चम्मच मात्रा में लेकर सुबह-शाम गर्म दूध के साथ सेवन करे| इससे शारीरिक निर्बलता भी ठीक हो जाती है और म*र्दाना शक्ति बढ़ती है|

कच्ची हल्दी और शहद –

Hastmaithun से हुई हानि के भरपाई के लिए, कच्ची हल्दी का रस दो चम्मच की मात्रा में निकालकर उतनी ही मात्रा में शहद मिलाकर रोजाना खाली पेठ सेवन करे|

यह भी पढ़े – न*पुंसकता का आयुर्वेदिक ईलाज – Ayurvedic Way to cure Napusankta
यह भी पढ़े – दूध को इस तरह पीने से पुरुषो में तीव्रता से बढ़ेगी यौ*न शक्ति – Milk Benefits for Sexual Health

इस पोस्ट को आप अपने रिलेटिव एवं फ्रेंड्स के साथ whatsapp एवं Facebook पर अवश्य शेयर करे| हो सकता है आपका एक share किसी के स्वास्थ्य में सुधार ला सकता है|
Sharing is Caring

इसी के साथ हमारा यह लेख समाप्त होता है अगर आपको (Hastmaithun से आई दुर्बलता को दूर करने के आयुर्वेदिक उपाय) इससे सम्बन्धित कुछ भी जानना है या राय देनी है तो आप निचे कमेंट बॉक्स में Comment कर सकते है|

ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामयाः ।
सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद्दुःखभाग्भवेत् ।
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

8 COMMENTS

  1. Me hastmethun lagbhag 13 14 saal se lekar 18 saal tak yaani ki lagbhag 5 saal hastmethun kiye h jiske karan sarir bahut patla ho gaya h or kamjori v. Sir plz mujhe koi rasta bataiye isse bachne ka

    • sarvpratham aap is boori lat ko chhor de….roj subah 3-4 kele or dudh ka sevan kare………..or khali peth ankurit ahar khaye

  2. Sir mera age 2o saal ho raha h or me lagbhag 15 saal ki umra se hastmethun kar raha par av mene hhod diya h. Jiske karan kamjor ho gaya hun . Kya mote or takatwar hone a koi tarika h plz sir help kijiye.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here